April 14, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

ये है रीवा के संजय गांधी अस्पताल जहां कुछ भी पटरी पर नहीं है |

रीवा के संजय गांधी अस्पताल की सारी व्यवस्था नहीं चल रही है पटरी पर
मित्रों के साथ शेयर करें


▪विंध्य सिटी न्यूज जिला ब्यूरो चीफ एवं न्यूज एडिटर राशीश पयासी की रिपोर्ट रीवा

संजय गांधी अस्पताल की व्यवस्थाओं को पटरी में

लाने का बेड़ा उठाया कलेक्टर ने लगातार चार घंटे बिताए अस्पताल में चप्पा चप्पा छान मारा लेकिन कहीं भी व्यवस्थाएं सही नजर नहीं आई
♦️रीवा:- अगर ये कहा जाए कि जिले का नामचीन संजय गांधी अस्पताल खुद ही बीमार है, तो गलत न होगा, क्या विंध्य क्षेत्र के सबसे बड़े अस्पताल में कुछ भी ठीक नहीं पर्ची बनाने के काउंटर से लेकर वार्ड तक में अफरा-तफरी का माहौल, मरीजों की भारी भीड़ पर उसे नियंत्रित करने का कोई इंतजाम नहीं किसी तरह पर्ची कट भी गई तो बहिरंग विभाग (ओपीडी) में सीनियर डॉक्टर ही नहीं पर्ची काउंटर पर वरिष्ठ नागरिक हों या महिलाएं सभी को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है, अस्पताल जैसे रेजीडेंट्स के बल पर ही चल रहा हो वार्डों में इतनी गंदगी की सामान्य आदमी बीमार हो जाए,
इस अस्पताल की दुर्दशा कोई नई नहीं है, लेकिन अब अस्पताल को सुधारने का बीड़ा खुद कलेक्टर इलैयाराजा टी ने उठाया है। उन्होंने अस्पताल का निरीक्षण किया चार घंटे तक मरीजों के बीच रहे, लगातार उनसे उनकी पीड़ा जानी, उनकी समस्या से संबंधित फीडबैक लिया, अस्पताल के डीन से लेकर साफ-सफाई प्रभारी तक की क्लास ली, कलेक्टर ने कहा कि पर्ची काउंटर पर खड़े लोगों का यही हाल रहा तो ये इनका इलाज कब होगा, ये तो खड़े-खड़े और बीमार हो जाएंगे। कुछ अनहोनी हो जाए तो कौन जवाबदेह होगा, उन्होंने मरीजों को भगवान की संज्ञा दी साथ ही कलेक्टर ने चार घंटे की बदहाली देख उन्होंने माथा पीट लिया।
दरअसल कलेक्टर, अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक के अचानक अवकाश पर चले जाने के बाद अस्पताल पहुंचे थे। बताया जाता है, कि चिकित्सा अधीक्षक कॉलेज प्रबंधन और डॉक्टरों की ड्यूटी के प्रति लापरवाही को लेकर काफी नाराज थे। ओपीडी में ड्यूटी करने वाले डॉक्टर हो या स्टॉफ कोई समय का पाबंद नहीं रहा, इस संबंध में जब वो कोई कार्रवाई करते तो उसे भी काउंटर किया जा रहा था। इसके चलते वो अधीक्षक पद ही छोड़कर चले गए।
चिकित्सा अधीक्षक के इस कदम से नाराज कलेक्टर ने अस्पताल का हाल जानने और खामियों को दूर करने खुद ही अस्पताल पहुंच गए, और अस्पताल परिसर में बिताए चार घंटों में उन्होंने जो देखा वो असहनीय रहा, इससे नाराज कलेक्टर ने डीन डॉ मनोज इंदुलकर की अच्छी खासी क्लास ली, पर्ची काउंटर से लेकर दवा वितरण तक के लिए लंबी-लंबी लाइन में लगे मरीजों को देख कर उनका दिल पसीज गया, लेकिन अंदर ही अंदर वह इस दुर्व्यवस्था से काफी नाराज हुए, ओपीडी में जांच रिपोर्ट दिखाने वालों के साथ जो कुछ होता देखा वह भी चौंकाने वाला रहा, कोई कंसल्टेंट हो तब तो रिपोर्ट देखे।
आखिरकार चार घंटे के दौरान कलेक्टर इलैयाराजा टी ने अस्पताल का चप्पा-चप्पा छान मारा, मगर एक भी स्थान ऐसा नहीं मिला जहां कुछ ठीक हो, एक तरफ जहां डॉक्टरों की गैरहाजिरी, वार्डों व वाश रूम की गंदगी, तो दूसरी ओर पर्ची वितरण व दवा वितरण का बीमार सिस्टम देख वह अंदर ही अंदर खासे नाराज हुए, जच्चा-बच्चा वार्ड हो या नवजात शिशु वार्ड चारों तरफ बद इंतजामी ही नजर आई, इस पर उन्होंने डीन व मेट्रन से लेकर हर जिम्मेदार को खरी-खोटी सुनाई और कहा कि अस्पताल की हालत जल्द से जल्द सुधरनी चाहिए अन्यथा मजबूरन कड़े कदम उठाने ही पड़ेंगे।


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!