April 14, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

रीवा में सूत्र सेवा के संचालक से 1.30 करोड़ की धोखाधड़ी,

7 बसों की राशि लेने के बाद थमा दी सिर्फ 4 बसें संचालक की शिकायत पर एसपी ने लिया संग्यान बस डीलर के खिलाफ चोरहटा थाने में एआईआर दर्ज |
मित्रों के साथ शेयर करें

विंध्य सिटी न्यूज जिला ब्यूरो चीफ एवं न्यूज एडिटर राशीश पयासी की रिपोर्ट रीवा

मध्यप्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी सूत्र सेवा योजना की बसों की खरीदारी करने वाले संचालक के साथ रीवा में 1.30 करोड़ की धोखाधड़ी हुई है। 7 बसों की राशि लेने के बाद ​डीलर ने सिर्फ 4 बसें ही दी है। जबकि तीन बसों के लिए कई माह से टाल मटोल किया जा रहा था।

ऐसे में थक हारकर संचालक ने एसपी राकेश सिंह से मामले की शिकायत की। जहां विवेचना करने के बाद चोरहटा पुलिस ने आयशर कंपनी के डीलर एवं सिंह इंटरप्राइजेज के प्रोपाइटर मनोज सिंह निवासी बोदाबाग के खिलाफ आईपीसी की धारा 406 एवं 420 का अपराध कायम कर लिया गया है।

शिकायतकर्ता रमेश तिवारी​ निवासी पुष्पराजनगर ने बताया कि सूत्र सेवा योजना के टेंडर हो जाने के बाद मनोज सिंह स्वयं उनके आफिस आए। तब उन्होंने कहा ​था कि एक बार आयशर की गाड़ी खरीदकर देखिए। हमारे पास सभी गाड़िया तैयार है। जिसे हम तुरंत ही उपलब्ध करा देंगे।

कई बार उनके आफिस आने जाने के बाद बस फाइनल हो गई। तब डीलर के कहने पर 13 जनवरी को 13 लाख रुपए एडवांस दे दिए। कुछ दिन बाद दो बैकों से फाइनेंस कराकर करीब 1 करोड़ 78 लाख रुपए डीलर के खाते में भेजे गए। तब डीलर ने कहा कि गाड़िया बन गई है। लेकिन जब देखने पहुंचे तो पता चला कि सिर्फ 4 गाड़ियों की चेचिस ही आई है।

30 मार्च को देने की थी बात
मनोज सिंह ने कहा कि 30 मार्च तक आपको सभी गाड़ियों को कम्प्लीट कराकर दे देंगे। जबकि दूसरी तरफ लोन की किश्त चालू हो जाने से तनाव बढ़ता गया। मनोज के कहने पर 13 अप्रैल को तीसरी बार 17 लाख रुपए इंदौर में गाड़ी की बॉडी तैयार करने वाले को भी दिए। कुछ दिन बाद मनोज ने फोन उठाना बंद कर दिया। जब आयशर कंपनी से संपर्क किया गया तो चर्चा के बाद चौथी बार 55 लाख फिर जमा कराए।

5 ड्राइवरों को भेज दिया इंदौर
आरोप है कि मनोज सिंह ने दावा किया कि 5 ड्राइवरों को इंदौर भेज दीजिए। वहां पर गाड़ी तैयार है। ऐसे में ड्राइवरों को तैयार कर तय समय में इंदौर भेज दिया गया। जब वहां चालक पहुंचे तो गाड़िया नहीं मिली। ऐसे में चालक खाली हाथ इंदौर से रीवा वापस आ गए। इसके बाद एसपी से ​शिकायत की गई तो 21 जून 2021 को चार बसें मिली। लेकिन तीन बसों के लिए 6 माह से चक्कर लगा रहा हूं।

दोहरी मार झेल रहा संचालक
सूत्र सेवा के संचालक पीड़ित रमेश तिवारी को दोहरी मार पड़ी है। एक तरफ वह बैंक का कर्जदार हो गया है। वहीं दूसरी तरफ हर माह किश्त की व्यवस्था करनी पड़ती है। उधर सूत्र सेवा के तहत जो अन्य बसों का संचालन करना था, वह भी समय पर नहीं हो पाया है। ऐसे में शासनस्तर से समय पर सेवा न शुरू होने से लगातार पत्र आ रहे है।



अपने क्षेत्र के व्‍हाट्स एप्‍प ग्रुप एवं फेसबुक ग्रुप से जुड़ने,
फेसबुक पेज लाइक करने एवं
मोबाईल एप्‍प डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

कृपया ज्‍यादा से ज्‍यादा शेयर करें। तथा कमेंट में अपने विचार प्रस्‍तुत करें।

सबसे पहले न्‍यूज पाने के लिए नीचे लाल बटन पर क्लिक करके सब्‍सक्राइब करें।

अगर दुनिया से पहले चीजों को जानने का जुनून है, खबरों के पीछे की खबर जानने का चस्का है, आपकी कलम में है वो ताकत, जो केवल सच लिखे, जिसे पढ़ने के लिए लोग बेताब हो।

तो आइये हमारे साथ और अपनी कलम की सच्‍चाई को सबके सामने रखने का मौका आज ही रजिस्‍टर करें हमारे साथ या फिर बिना रजिस्‍टर के भी अपने विचार सबके सामने रख सकते हैं। आपके विचारों को सबके सामने लाने का जिम्‍मा हमारा।

अभी रजिस्‍टर करें

अपने विचार रखें

हाल की खबरें


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!