March 3, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

रैगांव विधानसभा उपचुनाव:सरकारी मशीनरी से लेकर राजनीतिक दलों ने शुरू की तैयारी, निर्वाचन आयोग की तीन साल से जमे अधिकारियों पर नजर

मित्रों के साथ शेयर करें

सतना जिला निर्वाचन कार्यालय ने स्थापना से तलब की जानकारी, आरओ, एआरओ से लेकर संयुक्त कलेक्टर, तहसीलदार, सीएमओ, एसडीओपी पर निगाह

रैगांव विधानसभा से पांच बार के विधायक व भाजपा के पूर्व मंत्री जुगुल किशोर बागरी के निधन से रिक्त हुई सीट पर सरकारी मशीनरी से लेकर राजनीतिक दलों ने भी तैयारियां शुरू कर दी है। भारत निर्वाचन आयोग ने साफ निर्देश दिए है कि रैगांव विधानसभा उपचुनाव से पहले तीन साल से जमे जिम्मेदार पद वाले अधिकारियों को अलग किया जाए।

शुरुआती दौर में आयोग के निशानें पर आरओ और एआरओ है। वहीं संयुक्त कलेक्टर से लेकर तहसीलदार, सीएमओ और एसडीओपी के पदों पर आयोग की निगाहें बनी हुई है। साथ ही पुलिस अधिकारी भी आयोग के दायरे में आ सकते है। इसके लिए जिला निर्वाचन शाखा ने कलेक्ट्रेट की स्थापना शाखा से संबंधित अधिकारियों की जानकारी तलब की है।

पार्टियों का आंतरिक सर्वे शुरू
बताया गया कि रैगांव विधानसभा उपचुनाव को लेकर भाजपा और कांग्रेस सहित बसपा ने आंतरिक सर्वे शुरू कर दिए है। तीनों दलों के जिम्मेदार स्थानीय मतदाता से फीडबैक ले रहे है। साथ ही क्षेत्र के मुददों और आंदोलनों को लेकर सबकी नजर है।

भाजपा से दावेदार
क्षेत्र के भाजपा नेताओं का दावा है कि बीजेपी का सर्वे लगभग हो चुका है। यहां से दिवंगत भाजपा विधायक जुगुल किशोर बागरी के बड़े पुत्र पुष्पराज बागरी या उनकी छोटी बहू बंदना बागरी, भाजपा नेत्री रानी बागरी, कोठी नगर पंचायत अध्यक्ष राकेश कोरी, संघ से जुड़े सत्यनाराण बागरी और हाल ही में भाजपा की जिला मंत्री बनी प्रतिमा बागरी को रेस में देखा जा रहा है।

कांग्रेस से दावेदार
कांग्रेस के अंदर खाने से आ रही खबर के मुताबिक पूर्व बसपा विधायक व वर्तमान समय में कांग्रेस नेत्री उषा चौधरी, प्रभा जित्तू बागरी, पूर्व प्रत्याशी कल्पना वर्मा, गया बागरी और प्रागेन्द्र बागरी का नाम शामिल है।


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!