March 1, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

सीएम शिवराज सिंह ने कहा मध्यप्रदेश में 31 मई तक नही होगी ढील 1 जून से धीरे-धीरे होगा अनलॉक,

मध्यप्रदेश में कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद अब एक जून से राज्य को अनलॉक करने की प्रक्रिया शुरु कर दी जाएगी. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस बात का एलान किया है. सीएम ने कहा कि अब पॉजिटिविटी रेट घटकर करीब 5 फीसदी हो गई है।
मित्रों के साथ शेयर करें

भोपालः मध्यप्रदेश में कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद अब एक जून से राज्य को अनलॉक करने की प्रक्रिया शुरु कर दी जाएगी। लेकिन अभी 31 मई तक पूरे प्रदेश में कोई ढील नही दी जायेगी। उन्होंने कहा है कि कोरोना काबू में आ रहा है और अब एक जून से प्रदेश को अनलॉक करने की प्रक्रिया शुरु की जाएगी। राज्य को एक जून से जिलों की पाजिटिविटी रेट देखकर चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा।

इंदौर के बाद भोपाल में भी अगले दस दिन सख्त लॉकउाउन रहेगा। 31 मई तक कोई छूट नहीं मिलेगी। न ही सरकारी दफ्तरों में कर्मचारियों की संख्या 10% से अधिक होगी। जिन जिलों में संक्रमण दर 5% से कम हो गई है, वहां भी अभी ढील नहीं देंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल संभाग की समीक्षा के दौरान यह निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि भोपाल में अभी केस और संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां अभी ढील देने से बाकी जिलों में भी मांग उठने लगेगी। ये ढील संक्रमण की चेन तोड़ने के प्रयासों को विफल कर सकती है। इसलिए 31 मई तक और सख्ती बरतें। सभी कलेक्टर अब पूरी सख्ती बरतें, ताकि कोरोना कर्फ्यू खोलने के पहले संक्रमण पूरी तरह नियंत्रण में हो।

25 मई से अनलॉक का प्लान रखा था

भोपाल क्राइसिस मैनेजमेँट ग्रुप ने सीएम के समक्ष 25 मई से अनलॉक का प्रस्ताव रखा था। इसमें कहा था कि दफ्तरों में कर्मचारियों की संख्या 10% से बढ़ाकर 25% कर दें। कुछ दुकानों को छूट दें। लेकिन, शिवराज ने इस पर सहमति नहीं दी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि राज्य मे पॉजिटिविटी रेट घटकर 5 फीसदी से कम हो गई है. 10 मई को जो पॉजिटीविटी रेट 15.79 फीसदी थी उसमें खासी कमी देखने को मिली है। प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट लगातार कम हो रही है। सीएम ने कहा कि रिकवरी रेट लगातार बढ़ रही है और 90 फीसदी से ज्यादा हो गई है। उन्होंने के कहा कि हालात पूरी तरह से काबू में आ रहे हैं। सीएम अनलॉक की प्रक्रिया को लेकर लगातार अधिकारियों के साथ बैठकें कर रहे हैं और जल्द ही अनलॉक का प्लान जनता के सामने रखा जा सकता है।

ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग की रणनीति बनाएं

मुख्यमंत्री ने कहा कि आक्रामक टेस्टिंग की रणनीति, कांटेक्ट ट्रेसिंग ‍और माइक्रो कंटेंनमेंट जोन बना कर प्रदेश में शेष रहे कोरोना प्रकरणों को जल्द समाप्त करने की तैयारी है। क्राइसिस मेनेंजमेंट ग्रुप के सभी सदस्य जुट जाएं। बैठक में स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ भोपाल, सीहोर, रायसेन, विदिशा तथा राजगढ़ कलेक्टर भी रहे। भोपाल कलेक्टर ने बताया कि टेस्टिंग के लिए 28 मोबाइल जांच दल सक्रिय हैं।

कृपया ज्‍यादा से ज्‍यादा शेयर करें। तथा कमेंट में अपने विचार प्रस्‍तुत करें।

सबसे पहले न्‍यूज पाने के लिए नीचे लाल बटन पर क्लिक करके सब्‍सक्राइब करें।

अपने क्षेत्र के व्‍हाट्स एप्‍प ग्रुप एवं फेसबुक ग्रुप से जुड़ने,
फेसबुक पेज लाइक करने एवं
मोबाईल एप्‍प डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

अगर दुनिया से पहले चीजों को जानने का जुनून है, खबरों के पीछे की खबर जानने का चस्का है, आपकी कलम में है वो ताकत, जो केवल सच लिखे, जिसे पढ़ने के लिए लोग बेताब हो।

तो आइये हमारे साथ और अपनी कलम की सच्‍चाई को सबके सामने रखने का मौका आज ही रजिस्‍टर करें हमारे साथ या फिर बिना रजिस्‍टर के भी अपने विचार सबके सामने रख सकते हैं। आपके विचारों को सबके सामने लाने का जिम्‍मा हमारा।

अभी रजिस्‍टर करें

अपने विचार रखें


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!