March 3, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

गांव में कोरोना की बढ़ती रफ्तार से बेबस हुए ग्रामीण, गांव में बढ़ रही भुखमरी

मित्रों के साथ शेयर करें

चुहिरी से आशीष त्रिपाठी की रिपोर्ट।

शहडोल: गोहपारू। प्रदेश के मुखिया सीएम शिवराज सिंह चौहान का आगमन संभागीय मुख्यालय शहडोल में हुआ, कोरोना की समीक्षा बैठक आयोजित हुई, निर्देश दिए गए ग्रामीण क्षेत्रों में जांच बढ़ाई जाए, जाहिर है ग्रामीण क्षेत्रों को लेकर सीएम डरे हुए हैं, और घोषणा भी की गई कि असहाय परिवार को 5000 की पेंशन दी जाएगी।

ग्राम पंचायत चुहिरी की ग्राउंड रिपोर्ट ली गई जिसमें स्वास्थ्य विभाग की बहुत कमिया पाई गई। ग्राम चुहिरी में 1 मई को कोरोना जाच के 33 सेंपल लिए गए जिसमें 25 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। इसके बाद 9 मई को पुनः जांच की जिसमें 54 सैंपल लिए गए जिससे 30 करोना संक्रमित पाए गए ।

सेम्पल जांच करते हुए

स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया तुरंत चुहिरी को ऑरेंज जोन घोषित किया गया, और जांच रोक दी गई, लगभग पूरे गांव में सर्दी जुखाम बुखार का प्रकोप छाया हुआ है। जांच में लगभग 70 परसेंट संक्रमित निकल रहे हैं, तो चुहिरी में और जांच की जानी थी, परंतु जांच रोक दी गई ।

इस समय गांव में किल कोरोना सर्वे कराया जा रहा है। जिसमें हर घर में सर्दी बुखार से पीड़ित लोग मिल रहे हैं। परंतु उनकी न तो जांच की जा रही है और ना ही उनको दवा उपलब्ध कराई जा रही है। यहां किट के नाम पर पेरासिटामोल की गोलियां दी जा रही हैं । आयुष काढ़ा भी यहां वितरण नहीं किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्था पूरी तरह से चरमराई हुई है।

ग्राम पंचायत में घूमते हुए लोग

यहां 4 से 5 परिवार लगभग पूरी तरह से संक्रमित हैं। उनके घर में कोई बाहर जाकर सामान लाने वाला नहीं है। ऐसी स्थिति में कोरोना संक्रमित व्यक्ति घर के बाहर निकल कर के अपनी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। और प्रशासन इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। जब परिवार पूरी तरह से घर मे कैद है। तो अपने घर की जरूरतों को किस तरह से पूरा कर सकता है । और ऐसे लोग जब घर से बाहर निकलते हैं तो उनसे और लोग संक्रमित हो रहे हैं जिससे संक्रमण पूरे गांव में फैल रहा है ।

गांव में कुछ सामान्य परिवार ऐसे भी हैं जहां पर न तो पात्रता पर्ची है और ना ही उनको इस महामारी में कहीं काम मिल रहा है। ऐसे परिवार अपना पालन पोषण किस तरह से करें यह भी एक गंभीर समस्या है। गांव में भुखमरी का आलम है। लोगों को काम नहीं मिल रहा। प्रशासन ने घोषणा कर दी कि, जब परिवार असहाय हो जाएगा तब 5000 की पेंशन दी जायेगी, वो 5000 की पेंशन किस काम की जब, हमारे परिवार के सदस्य ही हमारे पास नही होंगे। अभी जब क्रियान्वयन की बारी है तब ध्यान नहीं दिया जा रहा।

प्रशासन अगर सही समय पर ध्यान नहीं देगा तो 1 ग्राम पंचायत नही बल्कि सभी ग्राम पंचायत के लोग आने वाले समय में कोरोना संक्रमण से जूझते दिखाई देंगे।

कृपया हमारी सभी न्‍यूज को ज्‍यादा से ज्‍यादा शेयर करें। तथा कमेंट में अपने विचार प्रस्‍तुत करें।

सबसे पहले न्‍यूज पाने के लिए नीचे लाल बटन पर क्लिक करके सब्‍सक्राइब करें।

अपने क्षेत्र के व्‍हाट्स एप्‍प ग्रुप एवं फेसबुक ग्रुप से जुड़ने,
फेसबुक पेज लाइक करे एवं
मोबाईल एप्‍प डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!