March 3, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

Covid19 Oxygen Crisis: ऑक्सीजन की कमी से 10 कोरोना मरीजों की मौत

मित्रों के साथ शेयर करें

शहडोल । कोरोना वायरस (Coronavirus in Shahdol ) के चपेट में देशभर के राज्य हैं. सरकार और प्रशासन अपनी तरफ से पूरी कोशिश में जुटा हुआ है कि कोरोना के तेजी से बढ़ते कदम को रोका जा सके. हालात दिन पर दिन बिगड़ते जा रहे हैं और इस बीच कोरोना ने पिछले साल के मुकाबले कहीं ज्यादा भयावह रूप धारण कर लिया है. हर राज्य और लगभग हर शहर से भयावह वीडियो और खबरें सामने आ रही हैं.

जो लोग संक्रमण से बचे हुए हैं वह इससे बचेने की हर संभव कोशिश में जुटे हुए हैं और जिनके प्रियजन इस महामारी से संक्रमित हो चुके हैं वह उनके कारगर इलाज के लिए इधर से उधर भटक रह हैं. इस बीच मध्यप्रदेश के शहडोल से एक दर्दनाक रिपोर्ट सामने आई. शहडोल मेडिकल कालेज के कोरोना वार्ड में 10 मरीजों की मौत हो गई. इन दस लोगों की मौत का कारण समय पर ऑक्सीजन न मिलना था.
कोरोना संक्रमण के बीच अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के चलते मरीजों की दिक्कतें बढ़ गई हैं। शहडोल में सरकारी से लेकर निजी अस्पतालों तक में ऑक्सीजन का संकट गहरा गया है। कोरोना के चलते अस्पतालों में ऑक्सीजन की मांग 10 गुना तक बढ़ गया है। गैस कंपनियां मांग की तुलना में आपूर्ति करने में हाथ खड़े कर रही हैं।इस बीच, ऑक्सीजन सप्लाई रोकने की वजह से शनिवार को शहडोल मेडिकल कालेज में दस कोरोना संक्रमितों की जान चली गई। दसों मरीज कोविड वार्ड में ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे।आरोप है कि सुबह अचानक ऑक्सीजन की कमी होने से मरीजों की सांस फूलने लगी। जब तक ऑक्सीजन की दूसरी व्यवस्था होती, दस की मौत हो गई।

सुबह ऑक्सीजन खत्म होने से मचा हाहाकार-

हॉस्पिटल के हालात इतने गंभीर हैं कि कई मरीज को आने जाने वाले एरिया में ही स्ट्रेचर पर ऑक्सीजन के सहारे अपनी जिंदगी की लड़ाई लड़ रहे हैं. बताया जा रहा है कि सुबह के करीब 6 बजे हॉस्पिटल के ब्लॉक में ऑक्सीजन सिलेंडर खत्म हो गए. आक्सीजन न होने से मरीजों की हालात बिगड़ने लगी और अस्पताल में हाहाकार मचने लगा. कहा जा रहा है कि इसी बीच आईसीयू में वेंटिलेटर पर भर्ती 10 मरीजों ने ऑक्सीजन की कमी के चलते दम तोड़ दिया.

परिजनों ने लगाया प्रबंधन पर आरोप –

मृतक के परिजन फिरोज का कहना है कि मरीज की उम्र 60 वर्ष थी ,कल रात मे ही खाना डेक आए थे , सुबह आए तो गार्ड ने बताया कि रात मे ही ऑक्सीजन की कमी हो गई थी ।एक के परिजन ने बताया की लापरवाही से मृत्यु हुई है।

ऑक्सीजन खत्म होने से मेरा भानजा खत्म हो गया, करीब 4 बजे भोर मे यह हादसा हुआ,रात मे विडिओ कलिंग से बात भी हुई है और आज अलविदा कहे बिना चले गए –
अमित कुमार जैसवाल ,कोतमा (मृतक राजकुमार जेसवाल के मामा )


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!