March 1, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

ये 4 बैंक जल्द ही सरकारी से हो सकते हैं प्राइवेट! करोड़ों ग्राहकों पर होगा सीधा असर?

मित्रों के साथ शेयर करें

4 बैंकों में से 2 का निजीकरण वित्त वर्ष 2021-22 में होना है. बैंकिंग सेक्टर में सरकार निजीकरण के पहले चरण के तहत मिड साइज और छोटे बैंकों में हिस्सेदारी बेचने पर विचार कर रही है.

सरकारी बैंकों के प्राइवेटाइजेशन को लेकर बैंककर्मी लगातार विरोध जता रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank of Maharashtra), इंडियन ओवरसीज बैंक (Indian Overseas Bank), सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया (Central Bank of India) और बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India) का प्राइवेटाइजेशन होने जा रहा है.

1 फरवरी को पेश हुए बजट में बैंकों के निजीकरण का ऐलान किया गया था. फिलहाल वित्त वर्ष 2021-22 में दो सरकारी बैंकों के प्राइवेटाइजेशन का प्लान है. मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि प्राइवेटाइजेशन की लिस्ट में इंडियन ओवरसीज बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, सेंट्रल बैंक के नाम की चर्चा है. हालांकि, अभी तक इसको लेकर कोई भी फैसला नहीं हुआ है.

4 बैंकों में से 2 का निजीकरण वित्त वर्ष 2021-22 में होना है. बैंकिंग सेक्टर में सरकार निजीकरण के पहले चरण के तहत मिड साइज और छोटे बैंकों में हिस्सेदारी बेचने पर विचार कर रही है. कहा जा रहा है कि आने वाले सालों में सरकार देश के बड़े बैंकों पर भी दांव लगा सकती है.

सरकार देश में सिर्फ 5 बैंक रखना चाहती है. अन्य बैंकों का या तो मर्जर होगा या फिर उन्हें प्राइवेट कर दिया जाएगा. कहा जा रहा है कि सरकार उन्हीं बैंकों का आपस में मर्जर कराएगी जिनका एक्सपोजर पूरे देश में होगा.

बैंकों के निजीकरण का विरोध कर रहे बैंककर्मियों ने दो दिन का हड़ताल किया था. बैंककर्मियों पर संभावित असर के बीच ग्राहकों के बीच भी संशय का माहौल है. हालांकि एक्सपर्ट्स का कहना है कि सरकारी बैंकों को प्राइवेट करने से ग्राहकों पर कोई खास असर नहीं होगा. बैंक की सर्विसेज पहले की तरह जारी रहती है.

Join Whatsapp Group-1

Join Whatsapp Group-2

   फेसबुक पेज को लाईक करेंv

Mobile APP Download


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!