July 17, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

थानों की शिथिल कार्यवाही स्वीकार नहीं, थाना प्रभारियों को प्रोएक्टिव पुलिसिंग के लिये दिये गये निर्देश

मित्रों के साथ शेयर करें



दिनांक 19.04.2023 को माननीय मुख्यमंत्री महोदय, म.प्र. शासन द्वारा वीडियो कॉफ्रेसिंग के माध्यम से दिये गये निर्देशों के पालन एवं क्रियान्वयन हेतु आज दिनांक 27.04.2023 को पुलिस महानिदेशक मध्य प्रदेश द्वारा वीडियो कॉफ्रेसिंग का आयोजन आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये एवं कार्यवाही की समीक्षा की जाकर आवश्यक निर्देश दिये गये। आज दिनांक को आयोजित वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में श्री मो. यूसुफ कुरैशी, पुलिस अधीक्षक, जिला सिंगरौली, श्री शिवकुमार वर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, निरीक्षक अरूण पाण्डेय, थाना प्रभारी बैढन, निरीक्षक शंखधर द्विवेदी, थाना प्रभारी विन्ध्यनगर, निरीक्षक रावेन्द्र द्विवेदी, थाना प्रभारी नवानगर, निरीक्षक मनोज सोनी, सूबेदार आशीष तिवारी उपस्थित रहे

पुलिस अधीक्षक जिला सिंगरौली श्री मो. यूसुफ कुरैशी द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के उपरांत जिले के थाना प्रभारियों एवं राजपत्रित अधिकारियों को सख्ती से कार्यवाही करने हेतु निम्नांकित निर्देश दिये गयेः- थाना स्तर पर कार्यवाही की शिथिलता स्वीकार नही। थाना प्रभारियों को प्रोएक्टिव पुलिसिंग के लिये किया गया प्रेरित

1. भू-माफिया, रेत माफिया, खनन माफिया, शराब माफिया, खाद्यान्न माफिया जिले में किसी भी स्थिति में सक्रिय न हो इस संबंध में थाना प्रभारी सतत् रूप से अभियान के तहत कार्यवाही सुनिश्चित करें।
2. पुलिस अधीक्षक द्वारा प्रोएक्टिव पुलिसिंग के संबंध में अधिकारियों को निर्देशित किया गया। बताया गया कि पुलिस द्वारा क्षेत्र में कानून-व्यवस्था एवं अपराधों को रोकने का पूर्व से हरसंभव प्रयास करें। जैसे क्षेत्र में भ्रमण, प्रेट्रोलिंग, पैदल मार्च, नियमित चेकिग एवं जनता की शिकायतो का त्वरित निराकरण। बेहतर रिस्पॉन्स टाईम से प्रोएक्टिव पुलिसिंग हो सकती है। थाना क्षेत्र में फिक्स प्वाईंट निर्धारित किये जाये जहॉ पर पुलिस कर्मी नियमित रूप से तैनात रहे, क्षेत्र में च्वसपबम की टपेपइपसपजल हो यह थाना प्रभारी सुनिश्चित करें।
3. थाना क्षेत्र में आसूचना तंत्र को सक्रिय करें तथा किसी भी प्रकार की अनैतिक गतिविधियॉ परिलक्षित होने पर तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराते हुए वैधानिक कार्यवाही करना सुनिश्चित करेगें।
4. आहाता बंद हो जाने के कारण खुले में शराब पीने की शिकायते प्रकाश में आ रही है। अतः थाना प्रभारी निरंतर रूप से भ्रमण करे एवं सार्वजनिक स्थल पर शराब का शेवन करते पाये जाने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही सुनिश्चित करें।
5. विभिन्न जगहों पर गोल्ड लोन देने वाली संस्थाओं में लूट एवं डकैती की घटना घटित हुई है। अतः थाना प्रभारी ऐसे गैंग पर निगरानी बनाये रखे तथा इस प्रकार की आस पास जिले में हो रही घटनाओं में सम्मिलित अपराधियों की जानकारी एकत्रित कर आसूचना तंत्र को मजबूद रखे। बैंक, ए.टी.एम. इत्यादि जगहों पर निरंतर रूप से डे एवं नाईट पेट्रोलिंग हो यह सुनिश्चित किया जावे।
6. प्रत्येक शिकायत/अपराध पर जॉचकर्ता अधिकारी 24 घण्टे के अंदर मौके पर अनिवार्य रूप से उपस्थित हो तथा अपनी जॉच एवं विवेचना की कार्यवाही प्रारम्भ करें। साधारण किस्म के अपराधो का निराकरण 15 दिवस के अन्दर पूर्ण कर चालान पेश किया जावे।
7. संमंस वारंट की तामीली की समीक्षा थाना प्रभारी नियमित रूप से करे तथा प्रत्येक 15 दिवस में उक्त कार्य की समीक्षा राजपत्रित अधिकारी के द्वारा किया जाकर पालन प्रतिवेदन से अवगत कराया जावे।
8. थाना क्षेत्रांतर्गत चिटफण्ड कंपनियों के विरूद्ध शिकायत प्राप्त होने पर तत्काल वैधानिक कार्यवाही सुनिश्चित की जावे।
9. गरीब पिछड़े व्यक्तियों को जमीन, पैसो आदि का लालच देकर धर्मान्तरण कराने की शिकायतें प्राप्त होने पर तत्काल प्रभावी वैधानिक कार्यवाही सुनिश्चित की जावे।
10. सोशल मीडिया के माध्यम से धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुचाने एवं सामप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाले असामाजिक तत्वों के विरूद्ध नियमित मॉनीटरिंग कर तत्परता से वैधानिक कार्यवाही सुनिश्चित किया जावे।
11. थाना क्षेत्रांतर्गत जिन दुर्गम स्थान, अंधे एवं घुमावदार मोड़ों पर सर्वाधिक वाहन दुर्घटना की संभावना बनी रहती है, ऐसे स्थानों को हॉट स्पॉट के रूप में चिन्हित किया जाकर दुर्घटनाओं को रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु हर संभव आवश्यक उपाय किये जा रहे है।
12. चोरी, नकबजनी आदि संपत्ति संबंधी अपराधों में संलिप्त आद्यतन आरोपियों/गिरोह के विरूद्ध कठोरतम वैधानिक कार्यवाही किये जाने हेतु डाटा तैयार कर प्रस्तुत किया जावे।
13. जिले के किसी भी क्षेत्र में किसी भी स्थिति में जहरीली/कच्ची शराब का निर्माण एवं विक्रय नहीं हो। शराब दुकानों में संचालित आहते पूर्णतः बंद हो यह सुनिश्चित किया जावे। भ्रमण के दौरान ऐसी शिकायत प्राप्त होने तथा आहते खुले पाये जाने पर संबंधित बीट प्रभारी/थाना प्रभारी के विरूद्ध कठोर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जावेगी। इस हेतु निरंतर रूप से पुलिस पेट्रोलिंग एवं चेकिग की जा जावे। साथ ही किसी गांव, कस्बा, मोहल्ले आदि में अवैध शराब की पैकारी न होने पाए इस हेतु पुलिस की निरंतर रूप से वैधानिक कार्यवाही हो यह सुनिश्चित किया जावे।
14. अवैध मादक पदार्थाे के कारोबार के विरूद्ध लगातार अभियान चलाया जाकर निरंतर रूप से प्रभावी कार्यवाही हो।
15. पुलिस अधीक्षक द्वारा बताया गया कि नारकोटिक्स दीमक की तरह हमारी युवा पीढ़ी को खत्म कर रहा है और इसके व्यापार से आने वाला अवैध धन अपराधिक तत्वों के संरक्षण को भी पोषित करता है, इन दोनों मोर्चों पर करारा प्रहार करने के लिए पुलिस को एक स्पिरिट के साथ लड़ना और जीतना होगा टॉप टू बॉटम और बॉटम टू टॉप अप्रोच को अपनाते हुए ड्रग्स के सोर्स और डेस्टिनेशन, दोनों पर प्रहार कर इसके पूरे नेटवर्क को ध्वस्त करने की आवश्यकता है।
16. महिला संबंधी प्राप्त शिकायतो एवं उनकी समस्या को प्राथमिकता के साथ सुना जाकर तत्काल कार्यवाही किया जावे।
17. महिलाओं/बच्चियों पर घटित अपराधों जैसे दुष्कर्म, छेडछाड आदि के आरोपियों के विरूद्ध तत्काल सख्ती से कार्यवाही सुनिश्चित की जाये।
18. पुलिस की समस्त कार्यवाही निष्पक्ष एवं पारदर्शी हो। पुलिस के विरूद्ध अवैध वसूली, भ्रष्टाचार, आदि की शिकायत प्राप्त होने पर संबंधित के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी।
19. सायबर संबंधी अपराध एवं शिकायत प्राप्त होने पर शीघ्र कार्यवाही सुनिश्चित की जावे। सायबर संबंधी अपराधो की रोकथाम हेतु नियमित रूप से जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।
20. अनुसूचित जाति/जनजाति एवं कमजोर वर्ग के लोगांे पर घटित हो रहे अपराधों पर नियंत्रण के हरसम्भव प्रयास किये जावे तथा उनकी शिकायतों का गंभीरतापूर्वक सुनकर समुचित वैधानिक कार्यवाही करने हेतु समस्त थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया है।
21. पुलिस अधीक्षक द्वारा बताया गया कि पुलिस मुख्यालय के निर्देशानुसार प्रत्येक थाना की कार्यवाही का माहवार निर्धारित मापदण्ड के अनुरूप ग्रेडिग तैयार की जायेगी। उच्च प्रदर्शन करने वाले थानो को सम्मानित एवं निम्न स्तर की ग्रेडिग होने पर राजपत्रित अधिकारी से समीक्षा कराई जाकर संबंधित के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही भी प्रस्तावित की जावेगी।
22. पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों के परिवार कल्याण के लिये विभिन्न कल्याणकारी गतिविधियॉ का संचालन किया जायेगा। साथ ही जिले में लर्निग प्वाईंट एवं उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले तथा कम्पटीशन की तैयारी करने वाले बच्चो के बेहतर भविष्य एवं उनके सपने को साकार करने के लिये विशेषज्ञ परामर्शदाता (Expert Consultant) के माध्यम से कराई जायेगी काउंसलिग। पुलिस परिवार के लिये एवं कल्याण के लिये जिला स्तर पर हर संभव प्रयास किया जायेगा


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!