April 14, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

केवल हवा के सहारे जीवित है दिव्य कन्या इन्होंने दस वर्ष से कभी भोजन और पानी का स्वाद नहीं चखा

मित्रों के साथ शेयर करें

केवल हवा के सहारे जीवित है दिव्य कन्या इन्होंने दस वर्ष से कभी भोजन और पानी का स्वाद नहीं चखा

नौरोजाबाद_ क्या आप एक दिन कुछ खाए या पिए रह सकते है? क्यों कि भारत जैसे विकासशील देश में जन्हा व्रत एवम उपवास रखने की मान्यता है वन्हा लोग एक तो क्या २_३ दिन तक भी बिना कुछ खाए पिए रह सकते है लेकिन हैरानी की बात तब होती है जब कुछ लोग सारी उम्र बिना कुछ खाए पिए जिंदा रहने का चमत्कार कर जाते हैं ऐसा चमत्कार कुछ दिन पहले देखने को मिला कि एक दिव्य कन्या अपने दो भाइयों के साथ मां ज्वाला धाम शक्तिपीठ उचेहरा मंदिर उपस्थित होकर मां ज्वाला धाम शक्तिपीठ उचेहरा के संस्थापक/प्रधान पुजारी जी से मिलकर अपनी आप बीती बताई। दिव्य कन्या ने बताया कि मैं ग्राम पंचायत डुमरिया थाना पटना जिला कोरिया ( छत्तीसगढ ) की रहने वाली हूं और मैं पूरी तरह से विकलांग थी मेरे माता पिता मेरी दवाई करवाते थक चुके थे लेकिन मां के आर्शीवाद से मुझे एक रात स्वप्न आया और उस स्वप्न में मां दुर्गा जी ने दर्शन दिए और कहा कि बेटी चिंता मत करो तुम दिव्य कन्या के रुप में जानी जाओगी और पुरी तरह से ठीक हो जाओगी। स्वप्न खत्म होने के बाद जब मैं जागी तो पूरी तरह से ठीक हो चुकी थी उसी दिन से मैंने आज तक जल और अन्न ग्रहण नहीं किया। मैं सामान्य परिवार से हूं मेरे माता पिता और दो भाई है मैं घर का पूरा काम करती हूं खेती बाड़ी के कामों में भी माता पिता का सहयोग करती हूं। अभी कुछ दिन पहले मैं सो रही थीं तो मेरे स्वप्न में मां ज्वाला जी आई और बोली की बेटी मैं उमरिया जिला अन्तर्गत ग्राम पंचायत उचेहरा मध्य प्रदेश में मेरा स्थान है मैं वहां ज्वाला रूप में विराजमान हू मुझे तुम्हारे हाथ से दूध पीना है तो क्या तुम मुझे दूध पिलाओगी? तभी से मेरे को चिंता हुई और मैं यंहा का पता करके अपने दो भाइयों के साथ दूध लेकर आई हूं। मां ज्वाला धाम शक्तिपीठ उचेहरा के संस्थापक प्रधान पुजारी जी ने दिव्य कन्या को रहने के लिए साफ सुथरा कमरे मे ठहराया। फिर दिव्य कन्या को स्नान करके मां ज्वाला जी की विधिवत् पूजा अर्चना पूजा पाठ कराते हुए आरती करवाई। दिव्य कन्या ने मां ज्वाला जी को अपने घर से लाए हुए दूध का भोग लगाया। मां ज्वाला धाम शक्तिपीठ उचेहरा के संस्थापक प्रधान पुजारी जी ने दिव्य कन्या को मां ज्वाला जी की तस्वीर प्रसाद स्वरुप भेंट की। भारी संख्या में भक्त जन दिव्य कन्या के दर्शन किए। सब लोग आचार्यचकित होकर एक दूसरे से दिव्य कन्या की बात करते रहे। क्या ऐसा मुमकिन है? जी हां, कुछ ऐसी दिव्य कन्या जैसी और शश्खियते है जिन्होंने वर्षो से अनाज का एक दाना या पानी की एक बूंद भी अपने गले के नीचे नहीं उतारी। फिर वे एक आम मनुष्य की तरह अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं अन्य लोगों की भांति ही सारे कार्य कर रहे हैं
जय माता दी🚩🚩


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!