May 22, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

वन विभाग की लगभग 500 एकड़ जमीन पर दबंग कर रहे खेती, अफसरों को दिखती ही नहीं

मित्रों के साथ शेयर करें

अमन सिंह

ग्रामीणों ने कई बार की शिकायत फिर भी नहीं की गई कार्रवाई

सिंगरौली / गोरवी वन मंडल के अंतर्गत आने वाली वन विभाग की लगभग 500 एकड़ भूमि पर क्षेत्र के दबंगों द्वारा अवैध रूप से कब्जा कर खेती की जा रही है और वन विभाग हाथ पर हाथ रखे बैठा है। फॉरेस्ट के   मनीहारी गाँव से सटे बरवाड़ाड   बीट क्षेत्रों में वन रक्षक  राम लगन पाल की मिलीभगत से ग्राम के कुछ लोगों के द्वारा जंगल को उजाड़कर अवैध रूप से कब्जा कर लिया है, जहां  फसलों की खेती की जा रही हैं।

वन भूमि पर लहलहा रही फसलों को कभी भी देखा जा सकता है। तमाम शिकायतों के बाद भी जिम्मेदार अधिकारियों ने इस पर ध्यान नहीं दिया है, जो वन भूमि पर लगातार होते अतिक्रमणों का प्रमुख कारण है।
वनरक्षक देता है खुलेआम धमकी कर लो शिकायत जहां करना है मेरा कोई कुछ नहीं कर सकता

गौरतलब है कि वन कर्मियों की मिलीभगत से बरवाड़ाड बीट में  जेपी कोल माइंस सटे बीच जंगल मे  गाँव के हि कुछ दबंग ने  क्षेत्र में  लोगों ने जंगलों को काटकर वन भूमि पर कब्जा कर लिया है जहां ग्राव के  लोगों द्वारा खेती की जा रही है।

वनकर्मियों की मिली भगत से कराया जा रहा है जमीन पर कब्जा
लंबे समय से जारी इस कारोबार में वन कर्मियों द्वारा दबंग लोगों को वन भूमि कब्जाने की छूट दी है, जहां जंगलों को नुकसान पहुंचाकर लाभ कमाया जा रहा है। वहीं वनकर्मी इसमें दबंगों का साथ देने में पूरी जिम्मेदारी निभा रहे ह्रैं।

क्षेत्र में दबंगों द्वारा अवैध कब्जा कर

बरवाड़ाड में वन विभाग की जमीन पर दबंगों द्वारा लगाई गई फसल।

सूत्रों की माने तो रेत का अवैध कारोबार भी हो रहा
क्षेत्र के  मनीहारी  से बरवाड़ाड एवं  बीट क्षेत्र में रेत कारोबारियों द्वारा रेत का कारोबार वे रोकटोक किया जा रहा है। से लगा  हर एवं ग्रामों में नदी से रात में रेत निकालकर डंप कर दी जाती है, जिसे बाद में रात के समय अंधेरे में टैक्टर ट्राली के माध्यम से निकाला जाता है। वन क्षेत्र में रेत का यह अवैध कारोबार वन कर्मियों की मिलीभगत से किया जा रहा है, जिस पर जिम्मेदार अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया है। वन अधिकारियों द्वारा जब कभी कार्रवाई भी की जाती है, लेकिन अवैध कारोबारियों को जानकारी मिल जाती है और वह मौके से गायब हो जाते हैं।

  मनीहारी एवं बरवाड़ाड  बीट क्षेत्रों में वन कर्मियों की मिलीभगत से ग्राम के कुछ लोगों द्वारा जंगल को उजाड़कर अवैध कब्जा कर लिया है, और फसलों की  खेती कीजा रही हैं


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!