June 17, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

Ranji Trophy: एमपी ने इतिहास रचा, पहली बार जीती रणजी ट्रॉफी, टीम मुंबई को 6 विकेट से दी मात

मित्रों के साथ शेयर करें

भोपाल। मध्यप्रदेश ने पहली बार रणजी ट्रॉफी जीत ली है। एमपी ने फाइनल मुकाबले में मुंबई को छह विकेट से मात देकर यह उपलब्धि हासिल की। मध्यप्रदेश की टीम ने पहले दिन से शानदार प्रदर्शन करते हुए रणजी ट्रॉफी 2021-22 का खिताब अपने नाम किया है। बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए फाइनल में एमपी ने मुंबई को हराकर जबर्दस्त जीत हासिल की। एमपी की जीत में स्टार बल्लेबाज रजत पाटीदार का सबसे अहम रोल रहा जिन्होंने दोनों पारियों में शानदार बल्लेबाजी की। सीएम शिवराजसिंह चौहान और पूर्व सीएम कमलनाथ ने एमपी की जीत पर टीम को बधाई दी है।

मध्यप्रदेश ने रणजी ट्रॉफी का खिताब पहली बार जीता है। इससे पहले एमपी टीम साल 1999 में चंद्रकात पंडित की कप्तानी में फाइनल तक पहुंची थी, जहां कर्नाटक ने उसे 96 रनों से हरा दिया था। चंद्रकात पंडित इस बार एमपी के हेड कोच हैं।

मुंबई ने पांचवें दिन के शुरुआती सत्र में ही अपने बाकी आठ विकेट गंवा दिए थे। इसके चलते मुंबई की दूसरी पारी केवल 269 रनों पर सिमट गई। मुंबई के लिए दूसरी इनिंग्स पारी में सुवेद पारकर ने सबसे ज्यादा 51 रनों का योगदान दिया, सरफराज ने 45 और कप्तान पृथ्वी शॉ ने 44 रनों की पारी खेली। एमपी की ओर से गेंदबाज कुमार कार्तिकेय ने सबसे ज्यादा चार विकेट चटकाए। 108 रनों के टारगेट को एमपी टीम ने आसानी से हासिल कर लिया। एमपी के लिए दूसरी पारी में हिमांशु मंत्री ने सबसे ज्यादा 37 रनों का योगदान दिया। शुभम शर्मा और रजत पाटीदार ने 30-30 रनों की पारियां खेली।

मैच में टॉस जीतकर मुंबई ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पहली पारी में 374 रन बनाए थे। सरफराज खान ने 134 रनों की शानदार पारी खेली. एमपी की ओर से गौरव यादव ने 4 और अनुभव अग्रवाल ने तीन3 सफलताएं प्राप्त कीं. 374 रनों के जवाब में मध्यप्रदेश ने पहली पारी 536 रन बनाए। इस शानदार प्रदर्शन में बल्लेबाज रजत पाटीदार, शुभम शर्मा और यश दुबे का जबर्दस्त योगदान रहा, जिन्होंने शतकीय पारियां खेलीं. रजत पाटीदार ने 122 रनों की, जबकि यश दुबे ने 133 और शुभम शर्मा ने 116 रनोंं की पारियां खेलीं। मुंबई के लिए शम्स मुलानी ने सबसे ज्यादा 5 विकेट चटकाए थे।

41 बार की चैम्पियन है मुंबई है मध्यप्रदेश की टीम की जीत इसलिए भी अहम है क्योंकि मुंबई 41 बार चैम्पियन रह चुकी है। रणजी ट्रॉफी के 87 साल के इतिहास में मध्यप्रदेश महज दूसरा फाइनल खेल रही थी जबकि मुंबई की टीम रिकॉर्ड 47वां फाइनल मुकाबला खेल रही थी।



अपने क्षेत्र के व्‍हाट्स एप्‍प ग्रुप एवं फेसबुक ग्रुप से जुड़ने, के लिए यहां क्लिक करें

   लाइक फ़ेसबुक पेज     

   यूट्यूब चैनल लाइक एवं सब्सक्राइब   

   Follow on Twitter   

   टेलीग्राम पर ज्‍वाइन करें   

कृपया ज्‍यादा से ज्‍यादा शेयर करें। तथा कमेंट में अपने विचार प्रस्‍तुत करें।

सबसे पहले न्‍यूज पाने के लिए नीचे लाल बटन पर क्लिक करके सब्‍सक्राइब करें।

खबरें फटाफट

VINDHYA CITY NEWS


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!