June 17, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

इंजीनियर ने ऑफिस के वाट्सअप ग्रुप में डाल दिया सुहागरात का वीडियो

मित्रों के साथ शेयर करें

ग्वालियर। मध्यप्रदेश के ग्वालियर शहर में एक इंजीनियर ने ऑफिस के वाट्सअप ग्रुप में सुहागरात का वीडियो शेयर कर दिया, ग्रुप में वीडियो आते ही बवाल मच गया, क्योंकि इस ऑफिशियल ग्रुप में केवल नगर निगम आयुक्त द्वारा आदेश और निर्देश के लेटर जारी किए जाते हैं, इस हरकत पर नाराज होकर आयुक्त किशोर कान्याल ने असिस्टेंट इंजीनियर को कारण बताओ नोटिस जारी कर तीन दिन में जवाब मांगा है, अन्यत्र उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

जानकारी के अनुसार ग्वालियर नगर निगम के ऑफिशियल ग्रुप में पीएचई असिस्टेंट इंजीनियर ने सुहागरात वीडियो डाल दिया, ये वीडियो करीब चार मिनट का है, जैसे ही ग्रुप में यह वीडियो आया, अफसर से लेकर कर्मचारी तक हर किसी ने इस वीडियो को देखा और ये चर्चा का विषय बन गया, जहां एक और इस वीडियो को लेकर बवाल मच गया था, वहीं दूसरी और आयुक्त किशोर कान्याल ने कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया, इस नोटिस में साफ कहा गया कि बताईये क्यों न आपको सस्पेंड कर दिया जाए। इस नोटिस का जवाब भी तीन दिन के अंदर देना होगा, अन्यथा कारण नहीं बताने और इस प्रकार की हरकत के कारण उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

ऑफिस के ग्रुप में सुहागरात का वीडियो आपको बतादें कि आजकल सरकारी हो या प्रायवेट हर ऑफिस का एक ऑफिशियल ग्रुप होता है, जिसमें विभागीय आदेश निर्देश के साथ ही विभिन्न जानकारियां शेयर कि जाती है, ताकि संबंधित सभी अधिकारी कर्मचारी उसे देख व जान सकें, ऐसा ही एक ग्रुप नगर निगम ग्वालियर के है, जिसमें सभी इंजीनियर, विभाग प्रमुख जुड़े हुए हैं, इस ग्रुप को निगमायुक्त किशोर कान्याल ही चलाते हैं। इस ग्रुप में पीएचई विभाग के सहायक यंत्री डीके गुप्ता जिनकी उम्र भी करीब 59 साल है। उन्होंने एक पोर्न वीडियो शेयर कर दिया, इसमें सुहागरात का सीन दर्शाया जा रहा है। ऑफिस के ग्रुप में अचानक शेयर हुए इस वीडियो से हड़कंप मच गया।

ये लिखा है नोटिस में इस मामले में असिस्टेंट इंजीनियर को नोटिस जारी किया गया, जिसमें लिखा है कि 12 जून को आपके द्वारा नगर निगम के अधिकारिक वॉटसएप ग्रुप में एक वीडियो शेयर किया है, जो आपत्तिजनक होने के साथ अन्य सेवकों पर भी विपरीत उदाहरण पेश करता है। आप शासकीय सेवक हैं, आपका यह कृत्य शासकीय सेवकों के लिए निर्धारित नियमों के खिलाफ है। क्यों न आपके खिलाफ इस नियम के तहत सस्पेंड की कार्रवाई कर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए। आपक इस संबंध में अपना स्पष्टीकरण तीन दिन के अंदर मुझे लिखित में दें। अन्यथा आपके खिलाफ नियम के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।



अपने क्षेत्र के व्‍हाट्स एप्‍प ग्रुप एवं फेसबुक ग्रुप से जुड़ने, के लिए यहां क्लिक करें

   लाइक फ़ेसबुक पेज     

   यूट्यूब चैनल लाइक एवं सब्सक्राइब   

कृपया ज्‍यादा से ज्‍यादा शेयर करें। तथा कमेंट में अपने विचार प्रस्‍तुत करें।

सबसे पहले न्‍यूज पाने के लिए नीचे लाल बटन पर क्लिक करके सब्‍सक्राइब करें।

खबरें फटाफट


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!