May 22, 2024

VINDHYA CITY NEWS

सच्‍ची खबर अच्‍छी खबर

माउंटेन मैनः पत्नी के लिए पहाड़ का सीना चीरकर निकाल दिया पानी

मित्रों के साथ शेयर करें

सीधी. बिहार के दशरथ मांझी की कहानी अभी आपके जहन में होगी जिसने अपनी पत्नी की याद में 360 फीट लंबे पहाड़ को हथौड़ा और छैनी से ही काट कर सड़क बनाई थी। अब ऐसा ही माउंटेनमेन मध्य प्रदेश के सीधी में सामने आया है.. जिसने पत्नी की परेशानी को देखते हुए पहाड़ का सीना चीर कर कुआं खोद दिया और पानी निकालकर ही दम लिया।

जिले के बरबंधा गांव के हरी सिंह की पत्नी पानी के लिए दो किलोमीटर दूर जाना पड़ता था। पत्नी की ये परेशानी 40 साल के हरी सिंह को मजबूर कर दिया और फिर शुरू हुआ चट्टानों से बने पहाड़ को तोड़ने का मुश्किल काम। पहाड़ को तोड़ कर कुआं खोदने का फैसला लेने के लिए हरीसिंह का हौसला काम आया और तीन साल के कठिन परिश्रम के बाद 20 फीट चौड़ा 60 फीट गहरा कुआं खोद दिया। कुएं में थोड़ा सा पानी निकला है लेकिन खुदाई अभी रुकी नहीं है जब तक भरपूर पानी नहीं आ जाता तब तक कुएं की खुदाई जारी रहेगी।

सीधी जिला मुख्यालय से महज 45 किलोमीटर दूर सिहावल जनपद पंचायत के बरबंधा गांव के हरी सिंह के हौसले की चर्चा अब पूरे देश में हो रही है। पत्नी को पानी के परेशान होता देख सीधी के माउंटेनमेन ने पहाड़ का सीना चीर दिया और कुंआ खोदकर पानी भी निकाल दिया। दरअसल हरी सिंह के गांव की आबादी तीन हजार है लेकिन आज तक गांव में लोग की पानी जरूरत पूरी नहीं हो सकी है। सरकार की योजनाएं भी शायद इस गांव के पास से नहीं गुजर सकी हैं।

हरी सिंह गोंड की पत्नी सियावती भी गांव की महिलाओं की तरह ही 2 किलोमीटर दूर से पानी भरकर लाती रही है। इतनी दूर से पत्नी को पानी लाते देख आखिर एक दिन हरी सिंह ने निश्चय किया कि पत्नी के लिए पहाड़ तोड़कर पानी निकलना होगा। चट्टानों से घिरे पहाड़ को खोदना आसानी भी नहीं था पर मनुष्य के हौसले के आगे अक्सर पहाड़ जैसी चुनौतियां छोटी पड़ जाती हैं। आखिर पहाड़ के बीच 20 फीट चौड़ा 60 फीट गहरा कुआं खोद ही लिया और इसके लिए तीन साल का वक्त लगा।

हरि सिंह का संघर्ष अभी खत्म नहीं हुआ है अभी कुआं खोदने का कार्य जारी है, उसमें अभी थोड़ा बहुत पानी ही निकला है। उनकी जिद है जब तक कुएं में समुचित उपयोग के लिए पानी नहीं आता तब तक वह कुआं खोदते रहेंगे। इसके लिए और भी कई वर्ष मेहनत करने को तैयार है। जिले के माउंटेनमेन की कहानी सामने आने के बाद एक बार फिर से पंचायत और स्थानीय जनप्रतिनिधियों के उन दावों की पोल खुलती नजर आ रही है जो प्रदेश के अंतिम छोर तक विकास के दावे करते हैं।



अपने क्षेत्र के व्‍हाट्स एप्‍प ग्रुप एवं फेसबुक ग्रुप से जुड़ने, के लिए यहां क्लिक करें

   लाइक फ़ेसबुक पेज     

   यूट्यूब चैनल लाइक एवं सब्सक्राइब   

कृपया ज्‍यादा से ज्‍यादा शेयर करें। तथा कमेंट में अपने विचार प्रस्‍तुत करें।

सबसे पहले न्‍यूज पाने के लिए नीचे लाल बटन पर क्लिक करके सब्‍सक्राइब करें।

खबरें फटाफट


मित्रों के साथ शेयर करें
error: Content is protected !!